July 10, 2016

सिर चढ़ जाती है सफलता ?

सफलता का जश्न हर कोई मनाना चाहता है लेकिन कई बार यह सफलता हमारे दिमाग पर इतनी अधिक हावी हो जाती है कि हम इसे ही सब कुछ मानने लगते हैँ। इसमेँ नुकसान यह होता है कि आप सफलता के जश्न मेँ इतना खो जाते हैँ कि आगे बढ़ने के लिए मेहनत करना ही भूल जाते है। तब दो बातेँ होती हैँ या तो आप खुद को किस्मत का बेहद धनी मानने लगते है या फिर खुद को सर्वगुण संपन्न व्यक्ति मान लेते है, जिसके लिए कुछ नया सीखना बाकी ही नहीँ रहा। दोनोँ ही सूरतो मेँ आपके आगे बढ़ने के मार्ग अवरूद्ध हो जाते है क्योकि आप अपनी क्षमताओँ का विकास ही बंद कर देते है। सफलता को ठीक से हैँडल (Handle) न किया जाए तो उसका यह पहलू देखने को मिल सकता है। एक सफलता के बाद दूसरी सफलता पाने और उसमेँ निरंतरता बनाएँ रखना भी आवश्यक है।

11 comments:

Smart Indian said...

उपयोगी सलाह!

Upasna Siag said...

sahi baat

Sanju said...

Sachmuch hi Upyogi Salah Hai...
Aapke blog par aakar hamesha hi kuch alag Jankari Milti Hai.
Thanks & Please CONTINUE....

savan kumar said...

सहीं कहाँ आपने
http://savanxxx.blogspot.in

Virendra Singh said...

बात तो सही है। काम की बात लिखी है आपने।

Virendra Singh said...

अच्छी शिक्षा दी है आपने। धन्यवाद।

Virendra Singh said...

बात तो सही है। काम की बात लिखी है आपने।

Virendra Singh said...

बात तो सही है। काम की बात लिखी है आपने।

savan kumar said...

अच्छी सलाह
http://savanxxx.blogspot.in

Shanti Garg said...

Sahi kaha aapne....
Mere blog ki new post par aapka swagat hai

Sanju said...

साथॆक प्रस्तुतिकरण......
मेरे ब्लाॅग की नयी पोस्ट पर आपके विचारों की प्रतीक्षा....